Kriya Yoga - Why You Need to Practice It

क्रिया योग - आपको इसका अभ्यास करने की आवश्यकता क्यों है

आध्यात्मिक विकास, आत्म-जागरूकता और चेतना मनुष्य के लिए पवित्र अवस्थाएँ हैं जिन्हें क्रिया योग जैसी पवित्र तकनीकों का पालन किए बिना हासिल करना असंभव है

 

इस मूल्यवान योग तकनीक में एक अद्वितीय शक्ति है जो सच्चे आत्म का आह्वान कर सकती है, इस प्रकार व्यक्ति को एक अतिमानव में बदल सकती है। क्रिया योग की मदद से, ध्यान के इस रूप में विश्वास करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए ज्ञान, रचनात्मकता और शांति प्राप्त करना आसान होगा।

 

इस लेख में, हम क्रिया योग के बारे में अपना सर्वोत्तम ज्ञान साझा करेंगे और आपको बताएंगे कि आपको प्रतिदिन ध्यान के इस रूप का अभ्यास क्यों करना चाहिए।

क्रिया योग क्या है?

सरल शब्दों में, क्रिया योग एक प्राचीन ध्यान अभ्यास है जो कथित तौर पर किसी की आध्यात्मिक उन्नति को तेज करता है। यह उच्च दर से आध्यात्मिक विकास प्राप्त करने का एक वैज्ञानिक तरीका है।

 

किसी भी अतिरिक्त स्पष्टीकरण के लिए, कोई केवल ध्यान में नहीं उतर सकता और कल इसे सही तरीके से नहीं कर सकता; उस व्यक्ति को अपने विचारों को स्थिर करने में बहुत समय लगता है। यहीं पर क्रिया योग काम आता है; यह वैज्ञानिक रूप से आपको अपने विचारों को स्थिर रखने के लिए प्रशिक्षित करता है और आपकी ध्यान प्रक्रिया को आसान बनाता है।

 

भारत में पवित्र संतों ने लंबे समय से भूले हुए अतीत में इस आध्यात्मिक अभ्यास की खोज की है जिसके बारे में वास्तव में कोई बात नहीं करता है। सदियों तक लुप्त रहने के बाद, इस आध्यात्मिक अभ्यास को 1861 में महावतार बाबाजी द्वारा फिर से शुरू किया गया था।

बाद में बाबाजी ने यह पवित्र तकनीक अपने शिष्य लाहिड़ी महाशय को सिखाई; यह सांस दशकों से शिक्षक से छात्र को सौंपी जाती रही है।


लंबी कहानी को संक्षेप में कहें तो, क्रिया योग ध्यान आध्यात्मिक समझ हासिल करने और किसी के शरीर में शांति बढ़ाने के प्रमुख तरीकों में से एक है। आइए देखें कि हम इस तकनीक का अभ्यास कैसे कर सकते हैं।


क्रिया योग कैसे करें

क्रिया योग कैसे करें

1. शांत जगह ढूंढें

जब कोई भी व्यक्ति लगातार विभिन्न स्थानों से आने वाली आवाजें सुनता है तो वह ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है; इसलिए, एक शांत जगह ढूंढना आवश्यक है।

 

जब आप क्रिया योग करने जा रहे हों तो सबसे पहली और महत्वपूर्ण चीज जो आपको करनी चाहिए वह है एक ऐसा स्थान ढूंढना जहां ध्यान भटकाने का एक भी निशान न हो, शोर की तो बात ही छोड़ दें। यह कदम आपको अभ्यास पर अधिक अच्छी तरह से ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देगा।

 

उदाहरण के लिए, आप अपनी छत या बालकनी का उपयोग कर सकते हैं, या आप किसी ध्यान केंद्र (शांत स्थान जहां आप शांति से ध्यान कर सकते हैं) में शामिल हो सकते हैं।

2. सहज हो जाओ

शुरुआती लोगों के लिए क्रिया योग का अभ्यास करना बहुत कठिन होगा और अगर किसी को बैठने में असुविधा महसूस हो तो आत्मा से जुड़े रहना असंभव होगा।

 

अपने आप को एक आरामदायक स्थिति में रखें, जैसे कुर्सी पर बैठना या पैरों को क्रॉस करके फर्श पर बैठना। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कैसे बैठते हैं, बस यह जान लें कि आपकी रीढ़ सीधी होनी चाहिए और आपके हाथ फ्लैप पर टिके होने चाहिए।

3. सांस पर ध्यान केंद्रित करना

एक बार जब आप खुद को आरामदायक स्थिति में पा लें, तो अपनी सांस लेने पर ध्यान देना शुरू करें। सब कुछ भूलकर सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित करें।


अपना ध्यान नासिका में प्रवेश करने और छोड़ने वाली सांस की अनुभूति की ओर आकर्षित करें।

4. प्राणायाम अभ्यास

क्रिया योग में जीवन शक्ति ऊर्जा को प्रसारित करने और नियंत्रित करने के लिए कुछ संपूर्ण प्राणायाम (साँस लेने) तकनीकें शामिल हैं।


साँस लेने, रोकने, छोड़ने और रोकने के विशिष्ट अनुपात जैसे प्राथमिक प्राणायामों का अभ्यास स्वयं करना सबसे अच्छा है। आगे बढ़ने के लिए, आप किसी पेशेवर क्रिया योग अभ्यासकर्ता से सही मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं।

5. मंत्र जाप

क्रिया योग में मंत्रों का जाप सबसे आवश्यक कदम है, क्योंकि मंत्रों में व्यक्ति के मन को स्थिर करने की क्षमता होती है। अधिकांश क्रिया योग चिकित्सक अक्सर अपने मन को एकाग्र करने में सहायता के लिए इस अभ्यास को मंत्रों के उपयोग के साथ जोड़ते हैं।

 

क्रिया योग के दौरान एक बहुत ही सामान्य मंत्र है "ओम क्रिया बाबाजी नाम ओम्।" इस पवित्र मंत्र को मानसिक या मौखिक रूप से दोहराने से आपको अपनी सांस पर अधिक ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी।

6. ध्यान

प्राणायाम के बाद अब समय है अपनी एकाग्रता को ध्यान की ओर मोड़ने का। ध्यान किसी भी चीज़ से हो सकता है। आप दिव्य उपस्थिति, अपने आंतरिक स्व, या अपनी पसंद की किसी भी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करके ध्यान कर सकते हैं।

 

ध्यान का सरल लक्ष्य विचारों से परे पहुंचना और आंतरिक शांति और एकता की स्थिति को महसूस करना है।


यदि आपको ध्यान में रुचि है, तो आप स्किनरेंज टीम से जुड़ सकते हैं, और वे आपको ध्यान के सही मार्ग पर मार्गदर्शन करेंगे।

क्रिया योग के लाभ

क्रिया योग के लाभ

1. तनाव में कमी

खैर, तनाव के स्तर में कमी क्रिया योग का सबसे महत्वपूर्ण लाभ है; यह किसी के दिमाग को शांत कर सकता है और उन्हें अपने भविष्य के प्रयासों के बारे में अधिक स्पष्ट रूप से सोचने पर मजबूर कर सकता है।

 

तनाव के स्तर को कम करने से व्यक्ति भविष्य के निर्णय अधिक स्पष्ट और कुशलता से लेने में सक्षम होता है। आज का तनावपूर्ण जीवन लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है और यह योगाभ्यास तनाव की गंभीरता को कम करने और आपको आराम महसूस कराने में मदद कर सकता है।

2. आत्म-जागरूकता

नियमित ध्यान और क्रिया योग के दैनिक अभ्यास से, कोई भी व्यक्ति स्वयं को आत्म-जागरूकता की उच्च भावना से आच्छादित कर सकता है। इसके अलावा, यह आत्म-जागरूकता व्यक्तिगत विकास और जीवन में किसी के उद्देश्य की अधिक उपयुक्त समझ को निर्देशित कर सकती है।

3. बेहतर रिश्ते

इस योग अभ्यास की मदद से व्यक्ति करुणा, धैर्य और सहानुभूति जैसे अच्छे आचरण विकसित कर सकता है, जिससे दूसरों के साथ बेहतर रिश्ते बनते हैं।

 

हम समझते हैं कि आज की भागदौड़ भरी जीवनशैली नशे से भरी है, इसलिए दूसरों के प्रति चिड़चिड़ा व्यवहार स्पष्ट है।


4. आध्यात्मिक समझ

कुछ लोगों ने दूसरों के लिए कुछ ज़बरदस्त गलतियाँ की होंगी; इसलिए, उन्होंने आध्यात्मिक विकास की अपनी संभावनाएँ कम कर दी हैं। चूँकि क्रिया योग ध्यान का एक रूप है, यह आपको दैवीय ऊर्जा से पुनः मिला सकता है और आपके आध्यात्मिक संबंध को बढ़ा सकता है।

निष्कर्ष

ध्यान के माध्यम से आंतरिक शांति प्राप्त करने के लिए क्रिया योग सबसे पर्याप्त तरीका है। यह एक प्राचीन प्रथा है जो किसी के शरीर में आध्यात्मिक विकास को गति देती है। इस योग अभ्यास के बहुत सारे लाभ हैं, जिनमें तनाव में कमी, आत्म-जागरूकता, रिश्ते में सुधार और आध्यात्मिक समझ शामिल है।

 

आप इस योग अभ्यास के साथ विभिन्न अभ्यासों को जोड़ सकते हैं, जैसे मंत्र जप, ध्यान और प्राणायाम अभ्यास।

सामान्य प्रश्न

क्रिया योग अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q1. क्रिया योग तकनीक क्या है?

उत्तर : क्रिया योग तकनीक आध्यात्मिक विकास को समृद्ध करने के लिए ध्यान, प्राणायाम (साँस लेने के व्यायाम) और अन्य तकनीकों का एक मिश्रण है।

Q2. क्रिया योग कितना शक्तिशाली है?

उत्तर : क्रिया योग सबसे शक्तिशाली ध्यान तकनीकों में से एक है, क्योंकि यह किसी को अपने सच्चे स्व से एकजुट कर सकता है, तनाव कम कर सकता है और उनकी आध्यात्मिक समझ में सुधार कर सकता है।

Q3. क्रिया योग की 4 तकनीकें क्या हैं?

उत्तर : क्रिया योग की 4 तकनीकें जो आपको आध्यात्मिक सफलता प्राप्त कराती हैं।


  • आध्यात्मिक क्रिया
  • भेदभावपूर्ण बुद्धि
  • निःस्वार्थ प्रेम और
  • ध्यान।

Q4. क्रिया योग की 5 शाखाएँ कौन सी हैं?

  • क्रिया हठ योग
  • क्रिया कुंडलिनी प्राणायाम
  • क्रिया ध्यान योग
  • क्रिया मंत्र योग और
  • क्रिया भक्ति योग

Q5. 7 क्रियाएँ क्या हैं?

  • ध्यान का मूल अभ्यास
  • ध्यान केंद्रित करने वाला मन
  • दिव्य स्वरूपों के प्रति भक्ति
  • शिष्य से गुरु का रिश्ता
  • जागरूकता का विस्तार
  • क्रिया योग की तैयारी
  • क्रिया आरंभ
ब्लॉग पर वापस जाएँ
1 का 3